india job post

Animal husbandry Schemes: पशुपालकों के लिए ये 5 बेहतरीन योजनाएं, जानिए पूरी डीटेल

 | 
पशुपालन

भारत में पशुपालन करने की परंपरा बहुत पुरानी हो चुकी है, परंतु आज के दौर में काफी बदलाव आया है और सरकार की ओर से भी कई प्रकार की सहायता की जा रही है, इसलिए आज के इस लेख में पशुपालन के लिए कुछ सरकारी योजना के बारे में बात करने वाले है, चलिए जानते हैं.

पशुपालन के लिए विशेष सरकारी स्कीम 

भारत खेती-बाड़ी करने वाला देश है, परंतु हम सबको पता है. खेती के साथ भारत का एक दूसरा पहलू भी है जो कि खेती-बाड़ी का एक मुख्य हिस्सा है. इसके बिना भारत क्या पूरी मानव सभ्यता में खेती की कल्पना नहीं हो सकती है. आपको बता दें कि देश का यह दूसरा पहलू पशुपालन है.वर्तमान समय में दूध उत्पादन के मामले में भारत पहले स्थान पर है और धीरे- धीरे कई प्रकार की सरकारी योजनाओं से आगे ही बढ़ता जा रहा है.

भारत में दूध के उत्पादन को बढ़ाने के लिए कई प्रकार की स्कीम चलाई जा रही हैं जो इस प्रकार हैं:

1.पशुधन बीमा योजना:

यह योजना देश में सभी पशुपालन करने वाले किसानों अन्य पशुपालकों के लिए है. इस स्कीम के अंतर्गत किसानों और पशुपालकों को उनके पशु की मौत होने पर बीमा होने पर पशुधन बीमा योजना के अंतर्गत एक मुश्त राशि दी जाती है.

2. चारा स्कीम:

पशु पालन, डेयरी तथा मत्स्यपालन विभाग द्वारा एक केन्द्र प्रायोजित चारा विकास स्कीम चलाई गई है, जिसका उद्देश्य चारा विकास हेतु राज्यों के प्रयासों में सहयोग करना है.

3. डेयरी उद्यमिता योजना:

डेयरी उद्यमिता विकास योजना (DEDS) के अंतर्गत डेयरी लगाने के लिए 25 फीसदी तक का अनुदान दिया जाता है और अगर आप अनुसूचित जाति/जनजाति की कैटेगरी में आते हैं तो आपको 33 फीसदी अनुदान मिलता है.

4.राष्ट्रीय डेयरी स्कीम:

इस योजना का उद्देश्य दुधारु पशुओं की उत्पादकता को बढ़ाना होता है और बाजार में डिमांड को पूरा करना है. इस स्कीम को 18 राज्यों में मुख्य रूप से चलाया गया है.

Also Read: Weather Update: राजधानी दिल्ली ,गुजरात सहित इन राज्यों में भी बदलेगा मौसम, जानें आज का ताजा वेदर अपडेट