india job post

Delhi Weather Today : दिल्ली में बदला मौसम, उमस भरी गर्मी से मिली राहत जमकर बरसे बदरा

अगस्त में दिल्ली में मात्र 41.6 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई, जो पिछले 14 वर्षों में सबसे कम आई है और इसके लिए उत्तर-पश्चिम भारत में किसी भी प्रमुख मौसम प्रणाली की अनुपस्थिति को जिम्मेदार बताया जा रहा है.
 | 
weather

दिल्ली के कई इलाकों में शुक्रवार को दोपहर में हुई भारी बारिश के से लोगों को उमस भरी गर्मी से थोड़ी राहत महसूस हुई है. शहर के शाहदरा, आईटीओ और इंडिया गेट सहित कई इलाकों में बारिश दर्ज हुई है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने दिन के दौरान दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना जताई थी.

विभाग ने दोपहर 1:35 बजे ट्वीट कर कहा अगले दो घंटे में दिल्ली के इंडिया गेट, अक्षरधाम, नेहरू स्टेडियम, डिफेंस कॉलोनी, लाजपत नगर के साथ साथ जींद (हरियाणा), सहारनपुर, देवबंद, मुजफ्फरनगर और खतौली में गरज के साथ हल्की से मध्यम बारिश होने वाली है.

आज दिल्ली की सुबह गर्म और उमस भरी थी लेकिन न्यूनतम तापमान 27.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ, जो सामान्य से एक डिग्री अधिक है.

आईएमडी ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में अधिकतम तापमान 38 डिग्री सेल्सियस रहने की आशंका है, जबकि सापेक्षिक आर्द्रता 78 प्रतिशत दर्ज हुई है.

दिल्ली में वीरवार को अधिकतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक 37.1 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था. मौसम विभाग ने बताया कि शुक्रवार को सुबह 8.30 बजे खत्म हुई 24 घंटे की अवधि में दिल्ली में बारिश नहीं हुई.

आईएमडी के मुताबिक, अगस्त में दिल्ली में केवल 41.6 मिलीमीटर बारिशहुई है, जो पिछले करीब 14 वर्षों में सबसे कम है और इसके लिए उत्तर-पश्चिम भारत में किसी भी प्रमुख मौसम प्रणाली की अनुपस्थिति को जिम्मेदार बताया जा रहा है.

मौसम विशेषज्ञ बारिश की कमी के पीछे बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिमी हिस्से के ऊपर बने तीन निम्न दबाव वाले क्षेत्रों को जिम्मेदार कहा जा रहा हैं, जिनके चलते मॉनसून मध्य भारत में टिका और लंबी अवधि तक उत्तर की ओर नहीं बढ़ पाया है. 

Also Read: Wheat Rate: देश की अलग-अलग मंडियो में गेहूं के भाव जानें (2 सितंबर 2022)

Also Read: ग्लोबल मार्केट में टूटे चावल की मांग में आया भारी उछाल, मानसून के प्रभाव से धान उत्पादन घटने का डर