india job post

Dhan Mandi Bhav: चावल किसानों की बल्ले-बल्ले, MSP से दोगुना हुआ 1509 धान का मंडी भाव

 | 
मंडी भाव, आज का ताजा मंडी भाव, ज्वार, गेहूं, धान, हरियाणा मंडी,

Indiajobpost, हरियाणा: इस बार राज्य में बासमती धान की अच्छी पैदावार और उम्मीद से अधिक भाव मिलने से किसानों के चेहरों पर खुशी छाई हुई है. बीते शनिवार से हरियाणा की फतेहाबाद व टोहाना अनाज मंडी में 1509 किस्म की आवक शुरू हो गई है. इस बार सीजन की शुरुआत से ही किसानों को अच्छा दाम मंडी में मिल रहा है जिसकी खुशी किसानों के साथ- साथ मंडी व्यापारियों के चेहरों पर भी देखी जा रही है. वही इस बार पैदावार भी प्रति एकड़ औसत 70 मन तक की निकल रही है.

शनिवार को फतेहाबाद मंडी में 1509 धान 3600 रुपए तो वहीं टोहाना मंडी में 3700 रुपए प्रति क्विंटल तक भी बिका, जो कि इस सीजन में अब तक का सबसे अधिक दाम है. बता दें कि धान के सीजन में सबसे पहले 1509, उसके बाद 1121 व परमल धान की आवक मंडियों में होती है. बता दे कि सरकार की ओर से केवल परमल धान ही खरीदा जाता है जिसका न्यूनतम समर्थन मूल्य 2060 रुपए प्रति क्विंटल सरकार तय किया गया है.


इस बार सीजन की शुरुआत से ही अधिक भाव

जानकारी के लिए बता दें कि पिछले सीजन भी 1509 धान 4000 रुपए प्रति क्विंटल तक बिका था लेकिन उसका फायदा किसानों को कम और व्यापारियों को अधिक हुआ था. पिछली बार सीजन की शुरुआत में 2800 से 3100 रुपए प्रति क्विंटल तक के दाम में किसान अपनी धान की फसल बेच गए और मार्च 2022 में यह भाव बढ़कर 4 हजार रुपए प्रति क्विंटल तक भी हो गया था,जिसका सीधा लाभ स्टॉक करने वाले व्यापारियों ने उठाया था. लेकिन इस बार सीजन की शुरुआत से ही किसानों को अच्छा दाम मिल रहा है और इस भाव में और उछाल आने की उम्मीद भी जताई जा रही है.

22 देशों में महकती है हरियाणा के फतेहाबाद जिले के चावलों की महक

हरियाणा राज्य के प्रमुख एक्सपोर्टरों में शामिल जिंदल इंडस्ट्रीज भी फतेहाबाद की अनाज मंडी से 1509 व 1121 धान की खरीद करती है. वह इस धान का चावल अधिकतर विदेशों में निर्यात करती है. जिंदल इंडस्ट्रीज का माल देश से 22 देशों खासकर खाड़ी व मिडल ईस्ट के देशों में अधिक एक्सपोर्ट होता है. अपने चावल की क्वालिटी को लेकर यह फर्म पूरे अरब के देशों में अलग पहचान भी बना चुकी है.

रोजाना मंडी भाव के लिए यहां टच कर व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़े

Also Read:Radish Cultivation: केवल 10 हजार का खर्च और 1.5 लाख तक कमाई, यह तरीका अपनाएं मूली की खेती में

Also Read:Subsidy Offer: राजस्थानी मिट्टी में लहराएंगे फलों के बाग, 10 हजार किसानों को मिलेगा 50% तक अनुदान

Also Read:MP Weather: मध्य प्रदेश में सुस्त हुआ मानसून, विभाग अनुसार 20 सितंबर के बाद करवट बदलेगा मौसम

Also Read:Onion Price: सरकार के इस कदम से, अब प्याज के दामों में आएगा उछाल