india job post

इस खेती में किसानों को मिलेगा प्रति हेक्टेयर 15 लाख तक का मुनाफा, अभी जानें बुवाई, बीजाई सहित सारी जानकारी

 | 
Ginger Farming, farming, cultivating ginger, business idea, profitable business, Earn lakhs of rupees by cultivating ginger, way to cultivating ginger, ginger tree, अदरक, मसाला, औषधि, बिजनेस आइडिया, कैरियर, अदरक खेती

देश के किसान पारंपरिक खेती को छोड़ कर अन्य सब्जी, बागवानी की फसलों में रुचि अधिक रखने लगे है। क्योंकि पारंपरिक फसलों की खेती के मुकाबले इन फसलों में कम लागत के साथ अधिक मुनाफा कमा लेते है। आज के इस लेख में हम आपको एक ऐसी फसल की खेती के बारें में बताने जा रहे है। जिसमें कम लागत के साथ बढ़िया मुनाफा कमा सकते है। और इसकी मांग साल भर मार्केट में बनी रहती है।       

जैसा आप सब जानते है कि भारत एक कृषि प्रधान देश है. आज भी भारत की लगभग 58 % आबादी के आजीविका का स्रोत खेती है. आज कई पढ़े-लिखे लोग खेती-किसानी की ओर जुड़कर लाखों रुपये कमा रहे हैं. अब खेती से जुड़े कारोबार के लिए सरकार भी कई तरह से सहायता कर रही है. आज हम यहां इस लेख में आपको अदरक की खेती (Ginger Farming) के बारे में सारी जानकारी विस्तार से बताएंगे.

सर्दियों में रहती है भारी मांग 

वैसे अदरक का इस्तेमाल मसाले, औषधियों तथा सौंदर्य सामग्री के रूप में हमारे दैनिक जीवन में वैदिक काल से ही चला आ रहा है. इसका उपयोग चाय से लेकर सब्जी और अचार तक में भी किया जाता है. सालभर अच्छी मांग के बने रहने के साथ ही कीमत भी लगातार अच्छी रहती है. भारत में सर्दियों में इसकी जबरदस्त डिमांड रहती है. इसके साथ ही पूरे साल भर भी इसकी अच्छी मांग लगातार बनी रहती है. इसमें आप नौकरी से अधिक मुनाफा कमा सकते हैं. सबसे खास बात है कि इसकी खेती के लिए केंद्र सरकार से मदद आपको सब्सिडी के रूप में मिल जाएगी.

ये भी पढ़े:मंडी भाव 14 सितंबर 2022: नरमा, मूंगफली, मोठ, बाजरा, सरसों, ग्वार, मूंग इत्यादि कृषि उपज भाव

अदरक की खेती -

आमतौर पर अदरक की खेती गर्म और आर्द्रता वाले स्थानों पर की जाती है. मध्यम वर्षा बुवाई के समय अदरक की गांठों के जमाने के लिये जरूरी भी होती है. अदरक की खेती बारिश के पानी पर अधिक निर्भर करती है. इसकी खेती अकेले या पपीता या अन्य बड़े पेड़ों वाली फसलों के बीच में भी की जा सकती है. वैसे एक हेक्टेयर में बुआई के लिए 2 से 3 क्विंटल तक अदरक के बीज की जरूरत पड़ती है. अदरक की खेती को बेड बनाकर ही करना चाहिए. इसके अलावा बीच में नालियां बनाने से पानी भी आसानी से निकल भी जाता है. पानी रुकने वाले खेतों में अदरक की खेती कभी नहीं करनी चाहिए. अदरक की खेती के लिए 6-7 पीएच वाली जमीन उपयुक्त मानी जाती है. अदरक की पिछली फसल के कंद का इस्तेमाल बीज के रूप में भी किया जाता है.

ये भी पढ़े:सावधान! इन राज्यों में आने वाली है आफत भरी बारिश, मौसम विभाग का अलर्ट जारी

अदरक के खेत की बुवाई का तरीका?

अदरक के खेत की बुवाई करते समय कतार से कतार की दूरी 30-40 सेंटीमीटर और पौधे से पौधे की दूरी 25 से 25 सेंटीमीटर तक होना चाहिए. इसके अलावा बीच कंदों को चार से पांच सेंटीमीटर गहराई में बोने के बाद हल्की मिट्टी या गोबर की खाद से ढक भी देना चाहिए.

रोजाना मंडी भाव के लिए यहां टच कर व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़े

अदरक पकने तक कितना आएगा खर्च

आमतौर पर अदरक की फसल को तैयार होने में 8 से 9 महीने का समय भी लग सकता है. एक हेक्टेयर में अदरक की पैदावार 150 से 200 क्विंटल तक आराम से हो जाती है. एक हेक्टेयर में अदरक की खेती में लगभग 7-8 लाख रुपये तक का खर्च आ सकता है.

1 हेक्टेयर में कितनी होगी कमाई?

अगर अदरक से कमाई की बात करें तो एक हेक्टेयर में अदरक की पैदावार 150-200 क्विंटल तक हो सकती है. और बाजार में अदरक करीब 80 रुपये प्रति किलो तक बिक रही है. यदि इसे 60 रुपये प्रति किलो के हिसाब से ही माने तो एक हेक्टेयर में 25 लाख रुपये तक की आमदनी  हो जाएगी. इसमें आए सभी खर्चों को निकालने के बाद भी 15 लाख रुपये तक का आसानी से लाभ किसान को हो जाएगा.

रोजाना मंडी भाव के लिए यहां टच कर व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़े

ये भी पढ़े: Weather Update Rajasthan: राजस्थान में एकदम बदला मौसम का मिजाज, विभाग मुताबिक राज्य में इस दिन तक जारी रहेगा मानसून