india job post

गेहूं और आटे के मूल्य में वृद्धि पर नियंत्रण के लिए जल्द उठाए जाएंगे कदम,FCI के पास हैं पर्याप्त स्टॉक

 | 
गेहूं और आटे के मूल्य में वृद्धि पर नियंत्रण के लिए जल्द उठाए जाएंगे कदम,FCI के पास हैं पर्याप्त स्टॉक
सरकार इस पर नियंत्रण के जल्द ही कदम उठाए जाएंगे। गेहूं और आटे के मूल्य मे लगातार हो रही बढ़ोतरी पर सरकार अपनी नजर बनाए हुए हैं।

नई दिल्ली:भारत के खाद्य सचिव संजीव चोपड़ा ने गुरुवार को जानकारी देते हुए बताया की अभी गेहूं और आटे के खुदरा मूल्य में वृद्धि हो रही है। सरकार इस पर नियंत्रण के जल्द ही कदम उठाए जाएंगे। गेहूं और आटे के मूल्य मे लगातार हो रही बढ़ोतरी पर सरकार अपनी नजर बनाए हुए हैं। जल्द ही मूल्य में कमी के लिए सभी विकल्प तलाशे जा रहे हैं।


गेहूं और आटे के मूल्य में वृद्धि

गेहूं के आटे के मूल्य में 38 रुपये प्रति किलो पहुंचने और इन बढ़ते मूल्य पर किसी तरह काबू पाना हें इस सवाल पर चोपड़ा ने कहा कि हम देख रहे हैं कि गेहूं और आटे के मूल्य में तेजी है। हम इस मामले सेभी  वाकिफ हैं। हम जल्द ही कोई ठोस कदम उठाएंगे। हालांकि, खाद्य सचिव ने सरकार की ओर से उठाए जाने वाले कदमों की कोई समयसीमा क्या हैं अभी नहीं बताई।

गेहूं और चावल का अभी पर्याप्त स्टाक:

खाद्य सचिव संजीव चोपड़ा ने कहा कि FCI के गोदामों में गेहूं और चावल का अभी पर्याप्त स्टाक है। घरेलू उत्पादन और FCI की खरीदारी की कमी के कारण सरकार ने पिछले वर्ष मई में गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध भी लगा दिया था। पिछले महीने सूत्रों के हवाले से पता चला था की सरकार खुदरा मूल्य में कमी के लिए सरकार 15-20 लाख टन गेहूं की खुले बाजार में बिक्री भी कर सकती है।


चीनी निर्यात कोटा बढ़ाने पर फैसला अगले महीने लगभग संभव:

खाद्य सचिव चोपड़ा ने कहा कि घरेलू उत्पादन और मांग की समीक्षा के बाद अब चीनी निर्यात कोटा बढ़ाने पर फैसला अगले महीने लिया जा सकता है। सरकार ने चालू सीजन में अभी तक 60 लाख टन तक चीनी निर्यात का कोटा तय ही कर रखा है। पिछले वर्ष 110 लाख टन चीनी का निर्यात किया गया था। अब चालू सीजन में मिलों ने 55 लाख टन चीनी निर्यात के सौदे पक् भी के कर लिए हैं। इसमें से 18 लाख टन चीनी का अब तक निर्यात भी किया जा चुका है।