india job post

बासमती चावल की खश्बू और स्वाद के लिए विदेशों में भारी मांग, अब सरकार का निर्यात बढ़ाने पर जोर

 | 
Saharanpur News, Saharanpur News Today, Saharanpur News in Hindi, सहारनपुर समाचार, सहारनपुर न्यूज़, saharanpur news, उत्तर प्रदेश समाचार, लेटेस्ट न्यूज, यूपी, कृषि समाचार, खेत खलिहान, यूपी न्यूज, सिटी न्यूज, बासमती चावल, बासमती का निर्यात,

देश में सरकार किसानों को आर्थिक मजबूत करने के लिए तरह-तरह की योजनाओं का परिचालन भी कर रही है। और किसानों को खेती के प्रोत्साहित भी कर रही है। इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश राज्य के सहारनपुर में बासमती धान के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए चावल निर्यातकों और किसानों के मध्य एक ऑनलाइन बैठक का आयोजन करवाया गया। इस बैठक में जिले के पांच कृषक उत्पादक संघों के प्रतिनिधियों और 13 निर्यातकों ने भाग लिया। बता दे कि सहारनपुर में लगभग 250 हेक्टेयर क्षेत्रफल में पांच कलस्टर बनाकर निर्यात योग्य बासमती धान की खेती किसानों द्वारा की जा रही है। इसमें कृषि विपणन एवं विदेश व्यापार विभाग के निदेशक ऋषिरेंद्र कुमार ने भी भागेदारी की। निर्यातकों ने निर्यात योग्य बासमती के अंतरराष्ट्रीय मानकों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

बता दे कि प्रदेश सरकार बासमती चावल के निर्यात को प्रोत्साहन भी दे रही है। जनपद के कृषक उत्पादक संगठन पांच कलस्टर बनाकर लगभग 250 हेक्टेयर क्षेत्रफल में निर्यात योग्य बासमती की खेती भी करा रहे हैं। कृषि विभाग अपने उत्पादन का 30 प्रतिशत निर्यात करने पर कृषक उत्पादक संगठनों से जुडे़ किसानों को 10 लाख रुपये की सब्सिडी भी देगा।

अपनी खुश्बू और स्वाद के लिए मशहूर भारतीय बासमती चावल दुनिया भर में बहुत पसंद किया जाता है। इसे देखते हुए प्रदेश सरकार बासमती चावल के निर्यात पर भी जोर दे रही है। निर्यात होने से न सिर्फ किसानों को उनके बासमती धान का लाभकारी मूल्य मिल सकेगा, बल्कि देश को विदेशी मुद्रा भी बढ़िया प्राप्त होगी।

राज्य के अन्न संपदा कृषक उत्पादक संगठन नागल ने 50.15 हेक्टेयर, ग्राउंड-टू फार्मर कृषक उत्पादक संगठन रामपुर मनिहारान ने 51 हेक्टेयर और मोक्षार्थ फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी नानौता ने 50.15 हेक्टेयर क्षेत्रफल में बासमती धान की रोपाई भी कराई है। वही इसके अलावा बासमती धान की दो अन्य कलस्टर भी शामिल इस योजना में शामिल हैं।

कई खाड़ी देशों , यूरोप एवं अमेरिका में है बासमती की भारी मांग

यहाँ के बासमती धान की खाड़ी देशों से लेकर यूरोप और अमेरिका आदि देशों में काफी मांग है। यहां से बासमती चावल का सबसे ज्यादा निर्यात खाड़ी के देशों, दुबई, बहरीन, सउदी अरब, कुवैत, यूनाईटेड किंगडम, अमेरिका आदि देशों में ही होता है। इन देशों में बासमती की पूसा बासमती -1121, पूसा बासमती-01 प्रजातियों के चावल को सर्वाधिक पसंद भी किया जाता है।

 रोजाना मंडी भाव के लिए यहां टच कर व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़े

ये भी पढ़े: Weather Update: इस राज्य में भारी बारिश और ओलावृष्टि का अलर्ट जारी, दिल्ली में मौसम हुआ सुहाना

ये भी पढ़े: Delhi Weather Today : दिल्ली में बदला मौसम, उमस भरी गर्मी से मिली राहत जमकर बरसे बदरा

ये भी पढ़े:मंडी भाव 7 सितंबर 2022: धान, नरमा, सरसों, बाजरा गेहूं, तारामीरा, मोठ, मूंग व सभी फसलों का भाव

ये भी पढ़े:Haryana Weather: 10 सितंबर तक हरियाणा में फिर से सक्रिय होंगी मानसूनी हवाएं, प्रदेश के इन जिलों में बारिश का अलर्ट

ये भी पढ़े:PM Fasal Bima Yojana: क्यों यूपी के किसान बना रहे है फसल बीमा योजना से दूरी? यह है मुख्य वजह

ये भी पढ़े:Dal Market in Indore: इंदौर मंडी में दाल चावल और अन्य फसलों के ताजा भाव