india job post

सूखा प्रभावित किसानों को यूपी सरकार की राहत, ट्यूबवेल का बिल माफ

 | 
drought condition in uttar pradesh, drought condition in several district in UP, drought condition, agriculture news, cm yogi adityanath orders for drought surevey, kheti kisani, tubewell connectionx

देश में इस मानसून कुछ विचित्र बारिश देखने को मिली है। क्योंकि कई राज्य इस समय बाढ़ का सामना कर रहे है। और कुछ राज्यों में सूखे की स्थिति का सामना करत रहे है। सबसे अधिक इसका नुकसान किसानों को हुआ है। क्योंकि खरीफ फसलें सूखे की चपेट में आ गई है। ऐसा ही हाल उत्तर प्रदेश राज्य का है। समय से सही बारिश ना होने से धान समेत अन्य फसलें पहले बुवाई में लेट ही गई थी। और बुवाई वाले इलाकों में सही बारिश ना होने से वह भी फसलें अब सूखने लगी है। कई जगह तो खेतों में दरारें दिखाई दे रही है। किसानों को बड़ा आर्थिक नुकसान हुआ है। इन सब स्थितियों को देखते हुए अब उत्तर प्रदेश राज्य सरकार ने सूखा प्रभावित किसानों के लिए बड़ा फैसला लिया है.

राज्य में सूखे की स्थिति को लेकर सरकार का बड़ा फैसला

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज (बुधवार), 7 सितंबर को प्रदेश में सूखे की स्थिति के सर्वेक्षण का निर्देश भी दिया है. और इस कार्य के लिए 75 जिलों में 75 टीमें बनाने का आदेश सीएम द्वारा दिया गया है. और इन टीमों को मात्र एक हफ्ते के अंदर सभी डीएम को सर्वेक्षण की रिपोर्ट देनी होगी जो बाद में मुख्यमंत्री को देनी होगी. किसी भी तरह की लापरवाही होने पर इसके जिम्मेदार जिलाधिकारी भी होंगे.

अब किसानों को नहीं लिए जाएंगे ट्यूबवेल के बिल

उत्तर प्रदेश सरकार के मुताबिक, राज्य के 62 जिलों में औसत से कम बारिश भी दर्ज हुई है. इन जिलों में लगान भी अब स्थगित रहेंगे. और ट्यूबवेल के बिलों की वसूली भी नहीं की जाएगी. किसी का भी ट्यूबवेल कनेक्शन भी नहीं काटा जाएगा. जल्द से जल्द दलहन-तिलहन और सब्जी के बीज किसानों को उपलब्ध कराने के निर्देश भी कृषि विभाग को दिए गए हैं.

राज्य के नहरों में होगी पानी की पर्याप्त व्यवस्था

मुख्यमंत्री द्वारा सिंचाई विभाग सिंचाई के लिए नहरों में पानी की पूरी उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश भी दिया गया है. बिजली विभाग को भी बिजली की आपूर्ति बढ़ाने का आदेश भी दिया है, ताकि प्रभावित किसानों के सामने सिंचाई को लेकर कोई भी समस्या न आए.

अब एक्शन मोड में योगी सरकार

आपको बता दें कि किसानों की स्थिति को देखते हुए पिछले कुछ दिनों से उत्तर प्रदेश सरकार पूरे एक्शन मोड में भी हैं. 06 सितंबर यानी मंगलवार को  कैबिनेट की बैठक में सरकार ने विभिन्न पारिस्थितिकीय संसाधनों द्वारा किसानों की खेत में खड़ी फसल, तैयार उपज के सुरक्षित भंडारण के लिए अगले पांच वर्षों तक 192 करोड़, 57 लाख, 75 हजार रुपये की रकम खर्च करने का फैसला भी लिया है.

रोजाना मंडी भाव के लिए यहां टच कर व्हाट्सप्प ग्रुप से जुड़े

ये भी पढ़े:Aaj Sarso Ka bhav 7 September 2022: देश की अलग-अलग मंडियो में आज ताज़ा सरसों का भाव

ये भी पढ़े: Edible Oil Price: खाद्य तेलों में गिरावट जारी, जानें आज के ताजा भाव

ये भी पढ़े:Indore Daal Mandi Bhav: चना व तुवर में गिरावट जारी, इंदौर मंडी में दाल-दलहन व गेहूँ के ताजा भाव

ये भी पढ़े:बासमती चावल की खश्बू और स्वाद के लिए विदेशों में भारी मांग, अब सरकार का निर्यात बढ़ाने पर जोर