india job post

Bullet Train: अब ट्रेन से होगी पानी के नीचे की सैर, 1888 दिनों में समुन्द्र के नीचे भारत में बनेगी सुरंग

 | 
"bullet train project, bullet train news, बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट, बुलेट ट्रेन न्यूज, जापान बुलेट ट्रेन, मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन, देश की पहली बुलेट ट्रेन, , बुलेट ट्रेन, मुंबई-अहमदाबार बुलेट ट्रेन, जापान, इनकम टैक्स"

Indiajobpost, New Dehli: देश में सबसे अधिक तेज गति वाली ट्रेन बुलेट का काम तेजी से जारी है। मुंबई-अहमादाबद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के लिए 21 किलोमीटर लंबी सुरंग के निर्माण के लिए नेशनल हाई स्पीड रेलवे कॉरपोरेशन लिमिटेड (NHSRCL) ने बोली के आवेदन मांगे हैं. जानकारी के लिए बता दे कि बुलेट ट्रेन का सात किमी मार्ग समुद्र के नीचे से होगा। और यहाँ ट्रेन की रफ्तार 300 किमी प्रति घंटे की रहेगी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र में सरकार के बदलने के बाद से बुलेट ट्रेन (Bullet Train) के कॉरिडोर के लिए काम अधिक तेज हो गया है. पहले इसके लिए जो आवेदन आए थे। उनको रद्द करके नए आवेदन मांगे गए है।   

इस भूमिगत रास्ते से गुजरेगी ट्रेन

बुलेट ट्रेन के लिए बनाए जा रहे इस प्रोजेक्ट का मुख्य आकर्षण माने जा रहे सुरंग का निर्माण महाराष्ट्र राज्य के ठाणे जिले के बांद्रा कॉम्प्लेक्स और शिलफाटा में भूमिगत स्टेशन के बीच किया जाएगा. टेंडर डॉक्यूमेंट के अनुसार टनल बोरिंग मशीन और न्यू ऑस्ट्रियन टनलिंग मेथड (NATM) का इस्तेमाल करके इस सुरंग को बनाया जाएगा. 

भारत देश में पहली बार बनेगा समुद्र के नीचे बनेगी टनल

गौरतलब है कि इस बात का दावा किया जा रहा है कि बुलेट ट्रेन के लिए बनने वाला यह ठाणे क्रीक प्रोजेक्ट में सात किलोमीटर लंबा यह समुन्द्र के नीचे देश में बनने वाला पहला टनल भी होगा जिसे समुद्र के से बनाया जा रहा है. टेंडर के अनुसार 1888 दिनों में इस टनल का काम पूरा भी करना होगा और इस टनल में बुलेट ट्रेन (Bullet Train top speed) 300 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से भागेगी.

NHSRCL ने कैंसिल कर दिया पुराना टेंडर

पिछले साल नवंबर में NHSRCL ने प्रोजेक्ट के लिए भूमिगत सुरंग निर्माण कार्यों (Underground Tunnelling Work) के लिए बोलियां भी आमंत्रित की थीं. लेकिन इस साल इसे रद्द भी कर दिया गया था. बता दे कि अधिकारियों ने "प्रशासनिक कारणों" का हवाला देते हुए इसे रद्द कर दिया था.

बता दे कि NHSRCL ने पहली बार 2019 में प्रोजेक्ट के लिए टेंडर मांगे थीं, लेकिन किसी भी बीडर ने इसमें दिलचस्पी भी नहीं दिखाई. बाद में बुलेट ट्रेन से जुड़े इस प्रोजेक्ट (Bullet Train Project) के लिए नवंबर 2021 में फिर से NHSRCL द्वारा टेंडर जारी किया गया.