india job post

Sariya Rate: सरिया के रेट में आई भारी गिरावट, 6 हज़ार तक हुआ भाव, घर बनाने का मौका

Building Construction Cost: मानसून के समय निर्माण गतिविधियां कम होती हैं. घर का कंस्ट्रक्शन का काम हो और सड़क और पुल का निर्माण, बारिश और बाढ़ से गति कम हो जाती है. इसी के बारिश के महीनों के दौरान निर्माण सामग्रियों के दाम में स्वाभाविक गिरावट आई है. इसके साथ साथ कुछ अन्य फैक्टर्स भी सरिये के दाम को गिराने में मदद करते हैं...
 | 
सरिया

देश के कई इलाकों में बारिश के चलते बाढ़ के हालात बन रहे हैं. यहां तक कि चेन्नई और बेंगलुरु जैसे शहरों में भी बारिश के चलते जलभराव की गंभीर समस्या आई है. इसका सीधा असर निर्माण गतिविधियों हुआ है. बारिश और बाढ़ के चलते निर्माण में कमी के चलते सीमेंट, सरिया जैसी सामग्रियों के रेट भी कम हुए हैं. अगर सरिये की बात की जाए तो इसे सरकारी दखल से भी फायदा मिला है. इन्ही तमाम फैक्टर्स सरिया को फिर से सस्ता हुआ हैं और पिछले डेढ़ महीने के दौरान इसके रेट में 6000 रुपये तक की गिरावट हुई है. अभी देश के कई शहरों में सरिये का रेट कम होकर 50 हजार रुपये प्रति टन हुआ है.

सरकार के इस फैसले से मिली राहत

आपको बता दें कि सरकार ने स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी (Export Duty On Steel) हाल ही बढ़ी थी. इसी वजह से घरेलू बाजार में स्टील के भाव तेजी से गिर रहे हैं. सरिये के भाव में आई कमी की मुख्य कारण भी यही है. इसके साथ साथ देश के कई इलाकों में हो रही भारी बारिश के चलते निर्माण गतिविधियों कम हुई है, जिसका असर डिमांड पर पड़ा है. मार्च-अप्रैल के दौरान सरिया का दाम रिकॉर्ड उच्च स्तर पहुंचा था. उसके बाद सरिया के दाम में तेजी से गिरावट हुई थी, लेकिन जून से इनकी कीमतें फिर बढ़ी थीं. इधर पिछले डेढ़ महीने के दौरान सरिया फिर से सस्ता हुआ है.

इस्पात मंत्रालय के आंकड़ों अनुसार TMT सरिया का खुदरा रेट अप्रैल की शुरुआत में 75,000 रुपये प्रति टन के पास था, जो 15 जून को गिरकर लगभग 65 हजार प्रति टन पर गया था. खुदरा बाजार के हिसाब से देखें तो अप्रैल में एक समय सरिया का रेट 82,000 रुपये प्रति टन पहुंचा था, जो अभी कम होकर 50 से 55 हजार रुपये प्रति टन है. इसका मतलब हुआ कि अप्रैल के रिकॉर्ड हाई की तुलना में सरिया का भाव अभी करीब 30 हजार रुपये प्रति टन कम हुआ है. सिर्फ लोकल ही नहीं बल्कि ब्रांडेड सरिया का भाव भी पिछले कुछ महीनों में है. मार्च 2022 में ब्रांडेड सरिया का रेट 01 लाख रुपये प्रति टन के पास पहुंचा था, जो अभी 80-85 हजार रुपये प्रति टन पर है.

जानें आपके शहर में क्या है सरिये का ताजा रेट

भारत के प्रमुख शहरों में सरिया के रेट अलग-अलग मात्रा से कम हुए हैं. आयरनमार्ट वेबसाइट सरिया की कीमतों की घट-बढ़ पर नजर रखी है और उसी आधार पर कीमतों को अपडेट किया जाता है. देश के प्रमुख शहरों की बात करें तो पिछले डेढ़ महीने के दौरान कानपुर और मुजफ्फरनगर में सरिया का रेट सबसे तेजी से कम हुआ है. 

शहर (राज्य)                   15 जुलाई    31 अगस्त    इतना सस्ता हुआ

दुर्गापुर (पश्चिम बंगाल)             51500    50000    1500

कोलकाता (पश्चिम बंगाल)        52000    50000    2000

रायगढ़ (छत्तीसगढ़)                55200    50100    5100

राउरकेला (ओडिशा)              56200    51000    5200

नागपुर (महाराष्ट्र)                   56000    52000    4000

हैदराबाद (तेलंगाना)              58000    53500    4500

जयपुर (राजस्थान)                58000    53400    4600

भावनगर (गुजरात)                58000    55600    2400

मुजफ्फरनगर (UP)             57800    52000    5800

गाजियाबाद (UP)            58200    52800    5500

इंदौर (मध्य प्रदेश)           56500    54200    2300

गोवा                             57600    55100    2500

जालना (महाराष्ट्र)            56500    54500    2000

मंडी गोविंदगढ़ (पंजाब)    59700    54100    5600

चेन्नई (तमिलनाडु)           59700    55700    4000

दिल्ली                          58800    54600    2200

मुंबई (महाराष्ट्र)               58700    55500    3200

कानपुर (उत्तर प्रदेश)       61800    56000    5800

Also Read: Animal Grass feed: किसान पशुओं को खिलाए यह 3 प्रकार की घास, बढ़ जाएगा दूध उत्पादन

Also Read: मंडी भाव 31 अगस्त 2022: धान 1509 और नरमा में तेजी, सरसों, गेहूं, के साथ-साथ कई फसलों का बोली भाव

Also Read: जलभराव की फोटो किसान खुद करें पोर्टल पर अपलोड, मिल जाएगा मुआवजा

Also Read: Subsidy: धान उत्पादक किसानों को ऐसे मिलेंगे प्रति एकड़ 1 हजार रुपये, जानें आवेदन सहित सारी जानकारी