india job post

WPI: अगस्त में सब्जियों के और ईंधन के दाम गिरे और थोक महंगाई 11 महीने के निचले स्तर पर पहुंच गई

 | 
WPI

WPI Data: थोक आधार पर मुद्रास्फीति लगातार तीसरे महीने घटकर अगस्त में 12.41 प्रतिशत पर विनिर्मित उत्पादों की कीमतों में कमी के कारण हुई। खाद्य कीमतों में वृद्धि के बावजूद, मुद्रास्फीति की दर में कमी आई है। थोक मूल्य सूचकांक (WPI) पर आधारित महंगाई दर पिछले महीने जुलाई में 13.93% थी। पिछले साल अगस्त में यह 11.64 फीसदी थी।

लगातार तीसरे महीने रही गिरावट

WPI मुद्रास्फीति में लगातार तीसरे महीने गिरावट का रुख देखने को मिला है. इससे पहले पिछले साल अप्रैल से लगातार 17वें महीने में यह दहाई अंकों में रही.

WPI मई में रिकॉर्ड लेवल पर था

डब्ल्यूपीआई इस वर्ष मई में 15.88 फीसदी के रिकॉर्ड ऊंचे स्तर पर पहुंच गई थी. अगस्त में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति बढ़कर 12.37 फीसदी पर पहुंच गई, जो जुलाई में 10.77 फीसदी पर थी. 

ईंधन और बिजली भी हुई सस्ती

इसके अलावा अगर ईंधन और बिजली की बात करें तो इसमें महंगाई दर अगस्त में 33.67 फीसदी रही, जो इससे पिछले महीने 43.75 फीसदी थी.

सब्जियों की कीमतों में आई गिरावट

अगर सब्जियों की कीमतों की बात करें तो इनके रेट्स जुलाई में घटकर 22.29 फीसदी पर आ गए हैं. वहीं, पिछले महीने यह 18.25 फीसदी पर थे. 

कैस रहा तेल तिलहन का हाल?

विनिर्मित उत्पादों और तिलहन की मुद्रास्फीति क्रमशः 7.51 फीसदी और नकारात्मक 13.48 फीसदी थी. भारतीय रिजर्व बैंक मुख्य रूप से मौद्रिक नीति के जरिए मुद्रास्फीति को नियंत्रित रखता है. खुदरा मुद्रास्फीति लगातार आठवें महीने भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा तय लक्ष्य से ऊपर रही है. अगस्त में यह 7 फीसदी पर थी. 

आरबीआई ने तीसरी बार बढ़ाई ब्याज दरें

महंगाई पर काबू पाने के लिए आरबीआई ने इस साल प्रमुख ब्याज दर को तीन बार बढ़ाकर 5.40 फीसदी कर दिया है. केंद्रीय बैंक ने 2022-23 में खुदरा मुद्रास्फीति के 6.7 फीसदी पर रहने का अनुमान जताया है.

Read Also: गुजरात में शुरू होगा देश का पहला सेमीकंडक्टर निर्माण संयंत्र, एक लाख का लैपटॉप 40 हजार रुपये मे मिलेगा!