india job post

Shravana Putrada Ekadashi 2022: इस दिन होगा पुत्रदा एकादशी व्रत, व्रत करने से संतान प्राप्तिमनोकामना होती है पूर्ण

 | 
पुत्रदा एकादशी व्रत, पुत्रदा एकादशी व्रत का महत्व, पुत्रदा एकादशी पूजा विधि, पुत्रदा एकादशी डेट, कब है सावन पुत्रदा एकादशी, सावन पुत्रदा एकादशी व्रत डेट, सावन पुत्रदा एकादशी व्रत पारण मुहूर्त, एकादशी व्रत नियम, पुत्रदा एकादशी व्रत कथा, भगवान विष्णु पूजा विधि, पुत्रदा एकादशी उपाय, Putrada Ekadashi Vrat, Sawan Putrada Ekadashi 2022, Sawan Putrada Ekadashi 2022 date, Sawan Putrada Ekadashi puja muhurat, Sawan Putrada Ekadashi importance, Putrada Ekadashi vrat katha, Sawan Putrada Ekadashi puja vidhi,, Putrada Ekadashi vrat kyu karte hai, Savan Putrada Ekadashi 2022, Savan Putrada Ekadashi Importance, Ekadashi vrat list 2022

भारतीय संस्कृति में हर माह का अपना एक अलग महत्व है। हर महीने कोई न कोई व्रत अवश्य किया जाता है। इसी तरह सावन मास के शुक्ल पक्ष की श्रावण पुत्रदा एकादशी (Shravana Putrada Ekadashi) 08 अगस्त दिन सोमवार को है.और इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने और व्रत रखने का विधान है. कई धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन जो भगवान विष्णु व्रत और पूजा करता है, उसे पुत्र की प्राप्ति अवश्य होती है. काशी के विख्यात ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट बताते हैं कि श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत के नाम से ही आप जान सकते हैं कि इस व्रत को रखने का मुख्य उद्देश्य क्या है. तो जो लोग नि:संतान हैं, जिनको अपने वंश वृद्धि की बहुत चिंता है, उनको श्रावण पुत्रदा एकादशी का व्रत जरूर रखना चाहिए. इस दिन आप कुछ उपायों को करके अपने मनोकामनाओं की पूर्ति भी कर सकते हैं. आइए इस लेख में जानते हैं श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत से जुड़े इन सभी उपायों के बारे में.  

जानें श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत के उपाय

1. श्रावण पुत्रदा एकादशी के दिन आपको भगवान विष्णु का गाय के दूध से अभिषेक करना चाहिए. और इसके लिए आप दक्षिणवर्ती शंख का उपयोग अवश्य करें क्योंकि यह शंख विष्णु जी को बेहद प्रिय है. ऐसा करने से श्रीहरि विष्णु प्रसन्न भी होंगे और आपके मनोकामनाओं की पूर्ति भी करेंगे.

2. अगर आपने संतान प्राप्ति की कामना से यह व्रत किया है, तो आपको पूजा के समय भगवान विष्णु को सिर्फ पीले रंग के फूलों की माला पहनानी चाहिए और चंदन के तिलक से श्रीहरि के मस्तक को तिलक करें. उनकी कृपा से आपकी ये इच्छा जरूर पूर्ण होगी.

3. अगर आप अपनी संतान की खुशहाली के लिए श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत रखना चाहते हैं तो इस दिन व्रत के साथ पूजा के समय ‘ऊँ नमो भगवते नारायणाय’ मंत्र का जाप कम से कम 108 बार जरूर करें. भगवान विष्णु के आशीर्वाद से आपका कल्याण अवश्य होगा.

4. भगवान श्रीकृष्ण विष्णु अवतार ही हैं. श्रावण पुत्रदा एकादशी को आप पूजा के समय संतान गोपाल मंत्र ऊं देवकी सुत गोविंद वासुदेव जगत्पते। देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गत:।। का जाप अवश्य करें. इस मंत्र के जाप से पुत्र प्राप्ति का विशेष योग बनता है.

5. इस साल श्रावण पुत्रदा एकादशी सावन सोमवार को पड़ रही तो सोमवार व्रत भी साथ है. इस दिन आप भगवान विष्णु और भगवान शिव दोनों की विधिपूर्वक पूजा जरूर करें. सावन सोमवार व्रत भी संतान प्राप्ति के लिए ही रखा जाता है. इस दिन आप दोनों देवों से अपने मनोकामना की पूर्ति के लिए पूजा उपरांत प्रार्थना करें.

 शुभ मुहूर्त श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत के 

इस दिन रवि योग प्रात: 05:46 बजे से दोपहर के 02:37 बजे तक है. इस समय में आपको श्रावण पुत्रदा एकादशी व्रत की पूजा अवश्य करनी चाहिए. रवि योग आपको अपने कार्यों में सफलता प्रदान अवश्य करेगा.

  • एकादशी तिथि प्रारंभ- रविवार 07 अगस्त 2022 रात 11:50 से
  • एकादशी तिथि समाप्त- सोमवार 8 अगस्त 2022 रात 9:00 बजे
  • पुत्रदा एकादशी का व्रत- सोमवार 8 अगस्त को रखा जाएगा
  • एकादशी व्रत का पारण- मंगलवार 9 अगस्त 2022 सुबह 5:46 से 8:26 तक

यह भी पढ़े - Sawan Somwar Vrat 2022: सावन के पहले सोमवार महत्व, किस तरह होती है पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

Also Read: Palmistry: अगर हाथ की उंगलियों में है इस तरह की जगह तो है बुरे भविष्य की निशानी